मोबाइल से हो सकता है ब्रेन ट्यूमर का खतरा

mobile-se-brain-tumor-ka-khatra

हमारी वेबसाइट गाय भैंस डॉट कॉम पर आपका स्वागत है। आज मैं आपको बताऊंगा कि कैसे मोबाइल फोन के उपयोग से ब्रेन ट्यूमर का खतरा बढ़ता जा रहा है।
रोजमर्रा की जिंदगी का अहम हिस्सा बन चुका मोबाइल का बेतहाशा इस्तेमाल हमारी सेहत के लिए खतरनाक साबित हो सकता है। एक नए शोध में दावा किया गया है कि मोबाइल फोन के ज्यादा इस्तेमाल से ब्रेन कैंसर का खतरा बढ़ रहा है। इसके चलते बीते दो दशक में घातक ब्रेन ट्यूमर होने की दर दोगुनी हो गई है  वैज्ञानिकों ने सरकारों से अपील की है कि अगर वह वक्त रहते नहीं चेते तो यह समस्या भयावह हो सकती है। यह शोध जनरल ऑफ पब्लिक हेल्थ एंड एनवायरनमेंट में छपा है। हालांकि इस अध्ययन के साथ ही दुनिया भर में एक नई बहस छिड़ गई है। कुछ वैज्ञानिकों का कहना है कि कैंसर या ट्यूमर के पीछे कई और भी कारक होते हैं।

मोबाइल से हो सकता है ब्रेन ट्यूमर का खतरा



इससे पहले विश्व स्वास्थ्य संगठन ने भी माना था कि मोबाइल फोन की रेडियो फ्रीक्वेंसी एक बस स्टैंड से निकलने से निकलने वाले रेडिएशन से भी ज्यादा होती है। इसका असर आम लोगों की सेहत पर भी पड़ता है।  अध्ययन ह हैल्थ इनिशिएटिव फॉर रेडिएशन एंड एनवायरमेंट के वैज्ञानिकों ने किया।

कैसे किया अध्ययन
वैज्ञानिकों ने बीते 21 साल में हुए 79,241 घातक ब्रेन ट्यूमर ग्लियोब्लास्टोमा मल्टीफर्मी का अध्ययन किया। ब्रिटेन में 1995 में जहां 1250 ट्यूमर के मरीज थे। अब वह संख्या बढ़कर 3000 हो गई।

DNA पर भी डालती है असर
हवा में डाटा इधर से उधर भेजने के लिए विद्युत चुंबकीय विकिरण यानी इलेक्ट्रोमैग्नेटिक तरंगे काम आती है। यह तरंगे हमारी सेहत पर नकारात्मक असर डालती है। यहां तक की कोशिकाओं की संरचना और DNA को भी प्रभावित करती है।

इन बीमारियों का भी खतरा ज़्यादा

कैंसर के अलावा नींद ना आना, सर्वाइकल स्पॉन्डिलाइटिस, इनफर्टिलिटी, कमजोर नजर, हार्टअटैक, सुनने की क्षमता पर असर और स्किन एलर्जी जैसी बीमारियां भी हो सकती है। यूरोपीय जर्नल ऑफ ऑंकोलॉजी में प्रकाशित एक शोध के अनुसार मोबाइल फोन से होने वाले विकिरण हृदय रोग का खतरा बढ़ जाता है। मोबाइल देखते हुए सड़क पार करने के दौरान भी लोग अक्सर हादसे का शिकार हो जाते हैं।

इस प्रकार जहां मोबाइल के उपयोग से अनेक फायदे होते हैं वहां हमें नुकसान भी हो रहे हैं। अतः हमें मोबाइल का उपयोग सोच समझ कर करना चाहिए। मुझे आशा है कि आपको यह पोस्ट पसंद आई होगी। इसी प्रकार की अन्य उपयोगी जानकारी के लिए हमारी वेबसाइट गाय भैंस डॉट कॉम पर निरंतर विजिट करते रहें।